हिन्दी प्रचारिणी सभा: ( कैनेडा)
की अन्तर्राष्ट्रीय त्रैमासिक पत्रिका

11वाँ विश्व हिंदी सम्मेलन - सम्पादक

11वें विश्व हिंदी सम्मेलन के स्वर्णावसर पर देश -विदेश के हिंदी सेनानी, साहित्यकार, कवि, हिंदी प्रेमी एवं सेवी महाकुभ्भ के जुटाव में हिंदी के विकास हेतु हो रहे यज्ञ में उपस्थिति एवं विचारों द्वारा आहुति दे, मॉरिशस भूमि के स्वामी विवेकानन्द अन्तर्राष्ट्रीय  सम्मेलन केन्द्र,पाई, को गोस्वामी तुलसीदास नगर नाम देकर धन्य किया ।

उद्घाघाटन सत्र में भारतीय विदेश मंत्री श्रीमती सुषमा स्वराज , गोवा की राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा, अन्य राज्य से आये राज्य मंत्री, भारतीय उच्चायुक्त श्री अभय ठाकुर, मॉरिशस की शिक्षा व मानव संसाधन, तृतीयक शिक्षा एवं वैज्ञानिक अनुसंधान मंत्री माननीय लीला देवी दुकन-लछूमन की उपस्थिति में माननीय श्री प्रवीन कुमार जगन्नाथ, प्रधान मंत्री मॉरिशस द्वारा उद्धघाटन उद्बबोधन किया गया।

श्री अभिमन्यु अनत सभागर में उद्धघाटन  समारोह के उपरान्त प्रारंभिक सत्र में, सभी

विशेष अतिथियों ने भारतीय पुरोधा, कवि , लेखक , सफल राजनीतिज्ञ एवं महान् विचारक माननीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दी । अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों को स्थगित कर चार समानांतर सत्रों का आयोजन किया गया जो  इस प्रकार रहें –

  1. भाषा एवं लोक संस्कृति के अंत: संबंध-अभिमन्यु अनत सभागार
  2. प्रौद्योगिकी के माध्यम से हिंदी सहित भारतीय भाषाओं का विकास – सूरूज प्रसाद मंगर भगत कक्ष
  3. हिंदी शिक्षण में भारतीय संस्कृति – भानुमति नागदान कक्ष
  4. हिंदी साहित्य में सांस्कृतिक चिंतन – गोपालदास नीरज कक्ष

 

सी प्रकार 19.08.18 को अन्य चार सत्रों का आयोजन किया ।
  1. फिल्मों के माध्यम से भारतीय संस्कृतिक संरक्षण – अभिमन्यु अनत सभागार
  2. संचार माध्यम एवं भारतीय संस्कृतिक – सुरुजप्रसाद मंगर ‘भगत ’ कक्ष
  3. प्रवासी संसार :भाषा और संस्कृति – भानुमति नागदान कक्ष
  4. हिंदी बाल साहित्य और भारतीय संस्कृति – गोपालदास ‘नीरज’ कक्ष

अनेक स्थानीय, भारतीय संस्थाओं ने अपनी पुस्तकों तथा भाषा प्रचार –प्रसार में सहायक अन्य माध्यमों की प्रदर्शनियाँ भी लगाई गई । स्थानिय छात्रों द्वारा नुकड़-नाटक , कविताओं पर बेले आदि किया गया ।

  1. अनेक लेखकों की पुस्तक विमोचन को भी मंत्रियों द्वारा न करवाते हुए देश विदेश के लेखकों एवं हिंदी सेवियों द्वारा ही समपन्न करवाया गया । इनमें मुख्यत:
  2. श्री श्याम त्रिपाठी (कनाडा) -हिन्दी चेतना पत्रिका यशपाल विशेषांक,
  3.  सूर्यदेव सिबोरत – तीन नाटक और एक (पद्य में )
  4. ,श्री हीरालाल  लीलाघर  – बाल स्यनतक ,
  5. कल्पना लालजी  –  माँ के नाम एक चिठ्टी,
  6. इन्द्रदेव भोला इन्द्रनाथ – इतिहास एवं भोजपूरी किस्सा मंजरी,
  7. इन्द्रदेव भोला इन्द्रनाथ – मॉरिशस हिंदी लेखक संघ पत्रिका

रात्रिभोज उपरान्त भारतीय सांस्कृतिक सबंध परिषद द्वारा प्रायोजित कवि सम्मेलन में चार मॉरिशसीय कवि तथा अन्य भारत से रहे ,साथ ही कार्यक्रम में सभी मंत्रिगण एवं विशिष्ट अतिथियों की उपस्थिति में माननीय अटल बिहारी वाजपेय जी को सफल काव्यांजलि प्रस्तुत की गई ।

सोमवार 20.08.18 को प्रतिवेदन सत्र उपरान्त अभिमन्यु अनत सभागार में माननीय सर अनिरुद्ध जगन्नाथ, मंत्री मार्गदर्शक ,रक्षा मंत्री एवं रोडिग्स मंत्री मॉरिशस गणराज्य, के सम्बोधन के  उपरान्त मुख्य अतिथि महामहिम श्री परमसिवम पिल्ले वैयापुरी, कार्यवाहक राष्ट्रपति, मॉरिशस गणराज्य द्वारा सम्बोधन उपरान्त त्रिदिवसीय सम्मेलन का समापन हुआ ।

हिंदी भाषा के साहित्यकार, भाषा प्रेमी एवं सेवियों को सम्मानित किया गया । हिंदी प्रचारिणी सभा एवं आर्य सभा मॉरिशस को भी विशेष योगदान के लिए एवं भाषा के प्रचार प्रसार हेतु लम्बे समय से सहयोग के लिए सम्मानित किया गया ।

देश-विदेश से आये अतिथि, हिंदी प्रेमी तथा मॉरिशस, भारत की सभी संस्थाओं एवं संलग्न मंत्रालयों के पूर्ण सहयोग से वर्ष 2018 का विश्व हिंदी सम्मेलन सफलता पूर्वक संपन्न हुआ साथ ही हिंदी को नई दिशाओं एवं आयामों तक उड़ने हेतु प्रत्येक व्यक्ति के सहयोग की अपेक्षा ही हिंदी के प्रवाह को निरंतर प्रवाहित करता रहेगा।

अंजू घरभरन (श्रीमती),महासचिव,हिंदी स्पीकिंग यूनियन